guru/brhaspat grah

| | 0 Comments

गुरु ग्रह को बृहस्पत भी कहते है |और हाथ मे किस्मत रेखा को बृहस्पति की रेखा भी कहा गया है| गुरु ग्रह दोनों जहान का मालिक है बृहस्पत की किसी से कोई दुश्मनी नहीं मगर बुध शुक्र खुद दुश्मनी करते है जब दुसमन ग्रह बृहस्पति के बुर्ज या कुंडली मे हो तो दुश्मनी का असर होगा |मगर गुरु के नाते पूरी उम्र मे पहले 8 साल नेक असर जरुरु देगा |पापी ग्रह और बुध के साथ मिल कर पिघले सोने की तरह होगा यानि उपाय के काबिल होगा |जब पापी ग्रह और केतु का फल मंदा होगा तो गुरु भी मंदा असर का होगा |कुंडली मे तरतीब एक से बारह खानो से देखे तो एक से पांच और 12 मे बैठा शनि और सूर्य की मदद करता है 6और 11 मे सिर्फ शनि जी की मदद करते है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *